motivational story in hindi |बिना विचारे जो करे,सो पीछे पछताय

0
201
motivational story

motivational story in hindi |(बिना विचारे जो करे,सो पीछे पछताय) आपको हम जो ये कहानी बताने जा रहे है वह एक ऐसी कहानी है जिसमे आप दो चीजे अच्छे से जान सकते है जिसमे पहली यह है की आप जिसको भी प्यार देंगे वह चाहे जानवर हो या पशु आपको वह उससे कंही ज्यादा प्यार देगा और दूसरी यह है की आप चाहे जो भी कार्य करें उसको पहले अच्छी तरह से सोच विचार ले उसके बाद ही करे न की क्रोध में या भावुकता होकर तो चलिए पढ़ते है यह प्यारी सी motivational story in hindi में….

motivational story in hindi:-

एक बार एक पंडित थे वह बहुत ही दयालु और परोपकारी थे,इसलिए गाँव के लोग उनकी बहुत इज्ज़त करते थे,उनके पास बस एक ही काम था की रोज किसी यजमान के यंहा जाते और उनको अपने प्रभु की कथाओं का ज्ञान प्रदान करते और जो मिलता उसको ले आते थे उसी में पूरा परिवार गुजारा करता था,(motivational story in hindi)रोज की तरह इस रोज भी वह किसी यजमान के यंहा से कथा आदि कहकर वापस आ रहे थे की रास्ते में उनको एक नेवला के बच्चे की आवाज सुनाई दी पंडित जी ठहरे दयालु वह उस आवाज की तरफ चले गए और वंहा पर देखा की मादा नेवला मर गया है और उसका बच्चा उसी के पास बैठा रो रहा है,(motivational story in hindi)पंडित जी उस बच्चे को उठा लाये और अपने बच्चे की तरह प्यार देने लगे,उनके यंहा भी एक छोटा बच्चा था जिसको खेलने के लिए छोटे नेवले बच्चे का साथ मिल चूका था दोनों बहुत ही प्यार से रहे साथ में खाते थे-खेलते थे और फिर कुछ समय बीतता गया ऐसे ही सब कुछ अच्छा चल रहा था,एक दिन पंडित जी का बच्चा सो रहा था और उसकी माँ पानी लेने के लिए बाहर गई थी,

motivational story in hindi:-

नेवले का बच्चा पास में बैठा था की अचानक कंही से सांप आया और बच्चे की तरफ बढ़ने लगा तो नेवला तुरंत उसके ऊपर झपटा और उसको मार डाला नेवले के मुह में कुछ खून लग गया और वह यह सोचने लगा की मैंने आज अपने भाई की जान बचाई है(motivational story in hindi) सब मुझे बहुत प्यार करेंगे यही सब सोचते हुए वह अपने घर के बाहर आ गया तब तक उसकी माँ वापस आगे पानी से भरा बाल्टी लेकर और उसने देखा की नेवले के मुंह पर खून लगा है उसने सोचा की नेवले ने मेरे बच्चे को मार डाला ये सोचकर उसने गुस्से में अपनी पानी से भरी बाल्टी नेवले के मुह पर  मार दिया जिससे नेवला मर गया और वह रोते हुए अन्दर आई और देखा की बच्चा सो रहा है वहीँ पास में एक सांप मरा हुआ पड़ा है (motivational story in hindi)उसके मन में विचार आ रहे है की मैंने सोचकर कार्य क्यों नही किया,तब तक पंडित जी आ गए उन्होंने ये सब देखा और समझ गए की आज क्या हुआ और तो उन्होंने ये कहा:-

मनुष्य से कहीं ज्यादा अच्छे जानवर होते है  जो एक परोपकार का बदला अपनी जान देकर करते हैं

किसी भी कार्य को करने से पहले सोच विचार जरुर करना चाहिये ,अन्यथा परिणाम भयंकर हो सकते है ..आचार्य चाणक्य 

motivational story in hindi की यह कड़ी आपको लिए रोज एक motivational story in hindi में लाती रहेगी आपसे अनुरोध है की अगर आपके पास ऐसी कोई कहानी है या कोई शायरी जोक कुछ भी है तो आप मुझ तक पहुचा सकते है हम उसको जरुर प्रकाशित करेंगे लेकिन वह कंही से चुराई नही होनी चाहिये.

अगर आपको हमारी ये motivational story in hindi अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर कीजिये,उनको भी हमारे साईट के बारे में बताये..आपका बहुत बहुत धन्यवाद

search terms:(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)(motivational story in hindi)

LEAVE A REPLY